दो पल रुका ख्वाबों का कारवां /Do Pal Ruka Khwabo

आं… आं.. आं.. आ..
दो पल रुका खाबों का कारवाँ
और फिर चल दिए, तुम कहाँ हम कहाँ
दो पल की थी, ये दिलों की दासताँ
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ


तुम थे के थी
कोई उजली किरण
तुम थे या कोई कली मुस्काई थी
तुम थे या,
सपनो का था सावन
तुम थे के खुशियों की
घटा छायी थी

तुम थे के था कोई फूल खिला
तुम थे या मिला था मुझे नया जहाँ
दो पल रुका खाबों का कारवाँ
और फिर चल दिए, तुम कहाँ हम कहाँ
दो पल की थी, ये दिलों की दासताँ
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ

आं… आं.. आं.. आ..
तुम थे या खुश्बू
हवाओं में थी
तुम थे या रंग सारी..
दिशाओं में थे

तुम थे या रोशनी
राहो में थी
तुम थे या गीत गूँजे
फ़िज़ा में थे

तुम थे मिले या मिली थी मंज़िले
तुम थे के था, जादू भरा कोई समा
दो पल रुका खाबों का कारवाँ
और फिर चल दिए, तुम कहाँ हम कहाँ
दो पल की थी, ये दिलों की दासताँ
और फिर चल दिए, तुम कहाँ,
हम कहाँ…

और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ

Song Title: do pal ruka khwabo ka karwa
Movie: Veer Zaara(2004)
Music Director: The Late Madan Mohan
Lyricist: Javed Akhtar
Singer: Lata Mangeshkar, Sonu Nigam
Star Casts: Shahrukh Khan, Preity Zinta, Rani Mukherji

Rate this post
Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *